हरियाली तीज 2020 : मां पार्वती की पूजा करते समय बरतें ये सावधानियां, कुंवारी कन्याएं

  • Jeevan Mantra

रजत शर्मा

 

श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरियाली तीज का पर्व मनाया जाता है। इस दिन पार्वतीजी के पूजन का विधान होता है। सावन में वर्षा से सारा माहौल हरा भरा हो जाता है। इसलिए भी इसको हरियाली तीज कहते है एवं तृतीया तिथि की स्वामी माता गौरी होती हैं। इसलिए इसको गौरी तीज या कजली तीज भी कहते हैं। उज्जैन के पंडित मनीष शर्मा के अनुसार जिस स्त्री का विवाह के पश्चात प्रथम सावन आया हो उसे ससुराल में नहीं रखा जाता। पकवान बनावकर बेटियों को सिंघारा भेजा जाता है। ससुराल में भी नई वधुओं को वस्त्र, गहने आदि दिए जाते हैं। इसके पश्चात वह मायके आ जाती है एवं नए वस्त्र, गहनों आदि से सुसज्जित हो अपनी सहेलियों के साथ उत्सव मनाती है।

 

कुंवारी कन्याएं भी कर सकती हैं हरियाली तीज का व्रत

 

विभिन्न क्षेत्रो में इसे भिन्न-भिन्न प्रकार से मनाया जाता है। सावन में झूले डलते हैं एवं सभी कृष्ण मंदिरों में भगवान के श्रीविग्रहों को हिंडोले में झुलाया जाता है। यह पर्व विशेषकर देवी पार्वतीजी के पूजन के लिए होता है। कुंवारी कन्याएं मनभावन पति की कामना के लिए इस पूजन को करती हैं एवं विवाहित स्त्राीयां वैवाहिक सुखों के साथ सदा सुहागन बनी रहने के लिए इस व्रत को करती हैं। शिवपुराण में भी वर्णन है कि इस तीज को जो माता पार्वतीजी का व्रत रख उन्हें झूले पर पर बैठाता है, वह कभी भी दुख को प्राप्त नहीं करता।

TTI News

Your Own Network

CONTACT : +91 9412277500


अब ख़बरें पाएं
व्हाट्सएप पर

ऐप के लिए
क्लिक करें